Thursday, July 18सही समय पर सच्ची खबर...

UP : बांदा में 3 इंस्पेक्टर, 1 दरोगा समेत 6 पुलिस वालों पर मुकदमा, तत्कालीन SOG प्रभारी भी आरोपी, पढ़ें खबर..

UP Police in News

समरनीति न्यूज, बांदा : बांदा में एक युवक को पुलिस द्वारा बेरहमी से पीटने और थर्ड डिग्री देने के मामले में बड़ी खबर है। 3 आरोपी इंस्पेक्टरों, एक दरोगा समेत 6 पुलिस कर्मियों पर मुकदमा हुआ है। इनमें तत्कालीन एसओजी प्रभारी भी शामिल हैं। मुकदमा बांदा के मर्का थाने में दर्ज हुआ था।

पिटाई में कट गई थी युवक की जीभ

जानकारी के अनुसार बांदा में सीजेएम न्यायालय के आदेश पर 4 साल बाद यह मामला दर्ज हुआ है। बताते हैं कि डकैती के खुलासे के लिए हिरासत में लिए गए युवक को पुलिस ने बुरी तरह पीटा था। आरोप है कि पिटाई के दौरान पुलिस ने थर्ड डिग्री दी। इससे पीड़ित युवक की जीभ कटकर गिर गई थी। बाद में उसका गंभीर हालत में इलाज हुआ था।

UP : रात में घर में घुसकर लड़की से कर रहा था छेड़छाड़, जमकर पिटाई-अब जाएगा जेल

इन पुलिस कर्मियों पर गंभीर आरोप

जानकारी के अनुसार मरका थाना क्षेत्र के मऊ गांव के मजरा कुसुमहिन पुरवा के संतोष गौतम के घर में 23 फरवरी 2021 को डकैती पड़ी थी। खुलासे के लिए तत्कालीन एसओजी प्रभारी आलोक सिंह, आनंद सिंह, बबेरू कोतवाल रामआसरे, मरका थाना एसआई और दो पुलिसकर्मियों ने गांव के अशोक उर्फ बड़कवा उर्फ कोदउवा, रज्जन, दीपक, रजवा और सुनील को पूछताछ के लिए उठाया था।

कंगना रनौत को मारा थप्पड़, CISF महिला जवान ने चंड़ीगढ़ एयपोर्ट पर की घटना, पढ़ें वजह..

आरोप है कि इन लोगों को मरका थाना ले जाकर 3 दिन तक उनसे मारपीट की गई। फिर सबूत न मिलने पर छोड़ दिया गया। इसके दो दिन बाद मरका पुलिस ने फिर अशोक उर्फ बड़कवा को थाने बुलाया। वहां लाकअप में बंद करके बेरहमी से पीटा। इतना पीटा कि उसकी जीभ कटकर गिर गई। आरोप है कि पुलिस ने उसे थर्ड डिग्री दी।

बांदा-कानपुर में हुआ पीड़ित का इलाज

जीभ कटने से जब वह बेहोश हो गया तो मरका थाना प्रभारी ने 9 अप्रैल 2021 को अशोक को जिला अस्पताल पहुंचाया। वहां से उसे डॉक्टरों ने कानपुर रेफर कर दिया था। बताते हैं कि 10 अप्रैल को दोबारा बांदा जिला अस्पताल लाकर भर्ती कराया। 16 अप्रैल को जिला अस्पताल से छुट्टी कराकर मरका थाना पुलिस उसे उसके घर छोड़ गई। बताते हैं कि पुलिस की दहशत से पहले आरोपी इतना डर गया कि इसकी शिकायत तक नहीं कर पाया।

मोदी कैबिनेट-3 : यूपी के 10 मंत्री, किसको मिला कौन सा विभाग, यहां पढ़ें पूरी लिस्ट..

कोर्ट के आदेश पर मर्का थाने में मुकदमा

पीड़ित का कहना है कि अब उसने हिम्मत करके आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए मरका थाने में तहरीर दी थी, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। फिर एसपी, आईजी जोन प्रयागराज, डीजीपी, मानवाधिकार आयोग नई दिल्ली को भी मामले में रजिस्ट्री की। मगर उसे कहीं से कोई न्याय नहीं मिला। आखिर में उसने न्यायालय की शरण ली। सीजेएम न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ मुकदमा लिखा है। थानाध्यक्ष मरका नरेश प्रजापति का कहना है कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा हुआ है। मामले की विवेचना वह खुद कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें : UP : समाज को झकझोरने वाली खबर, करोड़पति परिवार की दो बुजुर्ग बहनों के शव टाॅप फ्लोर के तपते कमरे में मिले