Monday, February 6सही समय पर सच्ची खबर...

यूपी : ललितपुर में SHO समेत 5 के खिलाफ नाबालिग से दुष्कर्म का मुकदमा, महकमे में खलबली

UP : Case of rape of minor against 5 including SHO in Lalitpur, FIR against woman in conspiracy

समरनीति न्यूज, बांदा/ललितपुर : यूपी के बुंदेलखंड के ललितपुर जिले एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। पाली थाने में एक 13 साल की लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में थानाध्यक्ष समेत 5 अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ है। यह लड़की पाली के ही एक मोहल्ले की रहने वाली है। पुलिस ने इस मामले में एक महिला को भी षड़यंत्र का आरोपी बनाया है।

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसपी ने गठित की टीमें

सभी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें गठित की गई हैं। मामला काफी चौंकाने वाला है। आरोप है कि पहले चार लोग लड़की को बहलाकर भगा ले गए। फिर थानाध्यक्ष ने थाने में बयान दर्ज कराने के बाद उसे हवस का शिकार बनाया। पाली थानाध्यक्ष के कुकर्म का खुलासा पीड़िता ने उस समय किया जब चाइल्ड हेल्प लाइन ने उसकी काउंसलिंग की। इसके बाद पूरे महकमे में हड़कंप मच गया।

ललितपुर के पाली थाना क्षेत्र का है सनसनीखेज मामला

बताया जाता है कि ललितपुर के थाना पाली क्षेत्र के एक मोहल्ले में रहने वाली महिला ने आरोप लगाया है कि बीती 22 अप्रैल को उनकी 13 साल की बेटी से गैंगरेप हुआ। पीड़ित महिला का आरोप है कि 22 अप्रैल को चंदन, राजभान, हरीशंकर, महेंद्र चौरसिया नाम के लोग उनकी बेटी को बहला फुसलाकर भोपाल ले गए।

Bijnor News Minor gang-raped, two 60-year-old accused arrested, looking for third

पहले 4 लोग घर से बहलाकर भगा ले गए थे भोपाल

वहां नाबालिग के साथ तीन दिन लगातार स्टेशन के पास ही रहते रहे। चारों उसके साथ सामूहिक रूप से दुष्कर्म करते रहे। फिर 26 अप्रैल को चारों आरोपी नाबालिग को थाने में दरोगा के पास छोड़कर भाग निकले।

ये भी पढ़ें : बांदा में सर्राफा व्यवसाई ने फांसी लगाई, सुसाइड नोट में महिला समेत कुछ पर ब्लैकमेलिंग के आरोप

आरोप है कि दरोगा ने पहले तो लड़की को उसकी मौसी को सौंपा। फिर उसे दूसरे गांव भेजा गया। इसके बाद 27 अप्रैल को फिर लड़की को बुलवाया।

बयान कराने के बाद SHO ने बनाया हवस का शिकार

वहां लड़की का बयान कराया। फिर शाम होने पर थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज ने नाबालिग पीड़िता को कमरे में ले जाकर उससे दुष्कर्म किया। इसके बाद फिर उसकी मौसी को सौंप दिया। पीड़िता ने कहा कि लड़की के बारे में उसके माता-पिता को सूचना नहीं दी गई। इसके बाद 30 अप्रैल को पीड़िता को फिर थाने लेकर पहुंचे।

एसपी ने दिखाई गंभीरता, SHO सस्पेंड, टीमें गठित

वहां कानूनी प्रक्रिया के तहत बच्ची को चाइल्ड लाइन के सुपुर्द कर दिया गया। वहां बच्ची की काउंसिंग हुई तो पूरा का पूरा मामला सामने आया। लड़की ने एसओ पर भी दुष्कर्म का आरोप लगाया है। मामले के सामने आने के बाद पूरे महकमे में खलबली मच गई। एसपी के आदेश पर पाली थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज तथा अन्य आरोपियों समेत कुल 6 लोगों के खिलाफ दुष्कर्म व षड़यंत्र की धाराओं में मुकदमा लिखा गया है।

ये भी पढ़ें : यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 16 IAS अफसरों के तबादले, पढि़ए पूरी लिस्ट..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *