Saturday, May 25सही समय पर सच्ची खबर...

Tag: पालिटिकल

BJP@Banda : चाटुकारों से घिरे जनप्रतिनिधि क्या जिता पाएंगे निकाय चुनाव..?

BJP@Banda : चाटुकारों से घिरे जनप्रतिनिधि क्या जिता पाएंगे निकाय चुनाव..?

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, बांदा, बुंदेलखंड
मनोज सिंह शुमाली, बांदा : उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव का बिगुल फुंक चुका है। सभी राजनीतिक दल अपना पूरा जोर इन चुनावों में लगाने वाले हैं। इसी क्रम में बुंदेलखंड के बांदा की बात करें तो सवाल उठता है कि चाटुकारों से घिरे रहने वाले जनप्रतिनिधि क्या निकाय चुनाव जिता पाएंगे..? दरअसल, बात जब लोकसभा और विधानसभा चुनावों की आती है तो मोदी-योगी के नाम पर लगभग एक तरफा चुनाव होते हैं। दोनों नेताओं को बुंदेलखंड की जनता खूब पसंद करती है। दोनों नेताओं का जादू लोगों के सिर चढ़कर बोलता है, लेकिन स्थानीय चुनाव, लोकल नेताओं यानी जनप्रतिनिधियों की साख पर निर्भर करता है। ऐसे में पुराना अनुभव भाजपा के लिए अच्छा नहीं है। लोकसभा और विधानसभा में चलता है मोदी-योगी का जादू, मगर.. इसकी वजह स्थानीय नेताओं की कम होती लोकप्रियता और जनता के बीच कमजोर पकड़ है। इस बात को आप इस तरह से समझ लीजिए। जल शक्ति विभाग के राज...
सपा ने की 25 जिलाध्यक्षों की घोषणा, लोकसभा के लिए चुनाव प्रभारी भी..

सपा ने की 25 जिलाध्यक्षों की घोषणा, लोकसभा के लिए चुनाव प्रभारी भी..

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, लखनऊ
समरनीति न्यूज, ब्यूरो (लखनऊ) : करीब 1 साल बाद होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर समाजवादी पार्टी ने कमर कस ली है। इसी क्रम में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कानपुर, बांदा, बिजनौर, अमरोहा, नोएडा और गंगापार समेत 25 जिलों के लिए जिलाध्यक्षों के नामों की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही लोकसभा क्षेत्रों के प्रभारी भी नियुक्त कर दिए हैं। सपा मुखिया के इस कदम को लोकसभा चुनाव की तैयारियों के रूप में देखा जा रहा है। इन लोकसभा क्षेत्रों के बने प्रभारी वरिष्ठ नेता अवधेश प्रसाद को अयोध्या, रामअचल राजभर को अंबेडकरनगर, घोसी, गाजीपुर और बलिया का प्रभारी बनाया गया है। वहीं लालजी वर्मा को आजमगढ़, लालगंज सु., मछलीशहर सु. और जौनपुर का प्रभारी नियुक्त किया गया है। इसी तरह राममूर्ति वर्मा को श्रावास्ती, गोंडा व राम प्रसाद चौधरी को बस्ती, राजा रामपाल को झांसी, जालौन, हमीरपुर, कानपुर, अकबर...
सदन में अखिलेश यादव ने खूब दिखाई धार, मजबूत विपक्ष बनकर उभरे

सदन में अखिलेश यादव ने खूब दिखाई धार, मजबूत विपक्ष बनकर उभरे

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, लखनऊ
समरनीति न्यूज, ब्यूरो (लखनऊ) : नेता प्रतिपक्ष के रुप में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव में हमलावर नजर आ रहे हैं। अपने पिता की राहों पर चलते हुए अखिलेश यादव ऐसे पहले नेता प्रतिपक्ष हैं , जिनके पिता भी सीएम रहने के बाद नेता प्रतिपक्ष बने थे। बजट सत्र के दौरान नेता सदन योगी आदित्यनाथ और नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव के बीच नोंक झोंक दिखी वहीं पहली बार नेता प्रतिपक्ष, सत्ताधारी दल के नेताओं पर भारी पड़ते नजर आए। एक मजबूत विपक्ष का नजारा किया पेश सदन में अखिलेश यादव की मौजूदगी एक मजबूत विपक्ष के नजारे को पेश कर रहा है। बजट सत्र में अखिलेश यादव पूरी तैयारी के साथ पहुंच रहे हैं, और इसका असर दिख रहा है कि सरकार के मंत्रियों को जवाब पर जवाब देना पड़ रहा है। अखिलेश यादव ने जातीय जनगणना, नेहा सिंह राठौर को नोटिस दिए जाने, किसानों की आय दोगुनी करने के साथ ही विकास के मुद्दे पर सरकार को घेरा। सरकार...
BJP4UP : सुनील बंसल Come Back, आखिर भाजपा को क्यों आई याद..

BJP4UP : सुनील बंसल Come Back, आखिर भाजपा को क्यों आई याद..

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, लखनऊ
मनोज सिंह शुमाली, ब्यूरो : यूपी बीजेपी संगठन को जादूगरी अंदाज में चलाने वाले राष्ट्रीय महामंत्री संगठन सुनील बंसल की एक बार फिर यूपी में एंट्री हुई है। 2014 के लोकसभा चुनाव के समय बीजेपी नेता अमित शाह जब यूपी के प्रभारी बने तभी सुनील बंसल यूपी आए थे। अमित शाह के साथ अपनी सांगठनिक क्षमता को दर्शाते हुए 2014 में बीजेपी को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस तरह उत्तर प्रदेश में भाजपा को दो लोकसभा और दो विधानसभा चुनाव जीता चुके पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री सुनील बंसल आज फिर लखनऊ में रहे। लखनऊ BJP कार्यालय में ली बैठक राजधानी में उन्होंने पार्टी कार्यालय में संगठन पदाधिकारियों की बैठक ली। 2024 के मद्देनजर चर्चा की और जिम्मेदारियां सौंपी। अब सवाल उठता है कि भाजपा को अचानक यूपी में बंसल की क्यों जरूरत पड़ी। हालांकि, कहा यह जा रहा है कि सुनील बंसल को पिछले लोकसभा में भाजपा ने हार...
Lucknow : CM Yogi के नाम बना यूपी में लगातार सबसे लंबे समय मुख्यमंत्री रहने का कीर्तिमान

Lucknow : CM Yogi के नाम बना यूपी में लगातार सबसे लंबे समय मुख्यमंत्री रहने का कीर्तिमान

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, भारत, लखनऊ
आशा सिंह, लखनऊ : सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम उत्तर प्रदेश के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने कीर्तिमान बन गया है। सीएम योगी ऐसे पहले मुख्यमंत्री हैं जो लगातार उत्तर प्रदेश के 5 साल 347 दिन तक मुख्यमंत्री पद पर रहे हैं। इससे पहले कांग्रेस शासन में डा. संपूर्णानंद पांच साल 345 दिन लगातार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। बाकी कोई सीएम इतने समय मुख्यमंत्री नहीं रहे। सीएम योगी ने कई और रिकार्ड भी बनाए इसके अलावा सीएम योगी के नाम रिकार्ड हो गया है कि उनके नेतृत्व में दूसरी बार किसी एक ही पार्टी की सरकार बनी है। इससे पहले नारायण दत्त तिवारी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की दोबारा सरकार बनी थी। 25 मार्च 2022 को जब मुख्यमंत्री योगी ने शपथ ली तो उन्होंने एनडी तिवारी का 37 साल पुराना रिकार्ड तोड़ा था। वहीं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पांच साल चार दिन त...
लखनऊ में अखिलेश यादव बोले, भाजपा ने मुझे यज्ञ में जाने से रोकने के लिए गुंडे भेजे, पिछड़ों-दलितों को मानती है शूद्र

लखनऊ में अखिलेश यादव बोले, भाजपा ने मुझे यज्ञ में जाने से रोकने के लिए गुंडे भेजे, पिछड़ों-दलितों को मानती है शूद्र

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, लखनऊ
ब्यूरो, लखनऊ : समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने आज लखनऊ में कहा कि भाजपा पिछड़ों और दलितों को शूद्र मानती है। भाजपा हम सभी को शूद्र मानती है। कहा कि हम धार्मिक स्थल पर जाते हैं या संतों और गुरुओं से मिलते हैं तो भाजपा को दिक्कत होती है। कहा कि आज हम यज्ञ कार्यक्रम में पहुंचे तो हमें रोकने के लिए भाजपा ने गुंडे भेजे। भाजपा के गुंडों ने हमपर हमला किया। कहा कि भाजपा समझ ले कि हम समाजवादी लोग डरने-घबराने वाले नहीं। कहा, मेरी सुरक्षा कम की, पीएसी हटाई सपा मुखिया अखिलेश ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने पुलिस और पीएसी को मौके से पहले ही हटा लिया। थोड़ी-बहुत पुलिस मौजूद रही, वह पूरी तरह से तमाशबीन बनी रही। इतना ही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा के लोग याद रखें समय बदलता है। याद रखें कि उनके लिए भी ऐसी ही व्यवस्था होगी। अखिलेश यादव ने कहा कि आज समझ में ...
रामचरित मानस : अखिलेश यादव भी स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर नाराज

रामचरित मानस : अखिलेश यादव भी स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर नाराज

Breaking News, Feature, Today's Top four News, उत्तर प्रदेश, भारत, लखनऊ
समरनीति न्यूज, लखनऊ : सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के रामचरित मानस पर विवादित बयान के बाद समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव भी नाराज हैं। पार्टी के विश्वस्त्र सूत्रों की माने तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने स्वामी प्रसाद मौर्य के इस बयान पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है। साथ ही पार्टी ने उनके बयान से पूरी तरह से किनारा कर लिया है। सपा नेता रविदास मेहरोत्रा ने इस मामले में बयान जारी करते हुए कहा है कि यह बयान स्वामी प्रसाद मौर्य का निजी है। सपा ने किया मौर्य के बयान से किनारा इससे पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। बताते चलें कि रामचरित मानस को लेकर स्वामी प्रसाद मौर्य ने विवादित बयान देते हुए इस पवित्र ग्रंथ पर प्रतिबंध लगाने की बात कह डाली थी। मौर्य ने कहा था कि रामचरितमानस में दलितों और महिलाओं का अपमान है। कहा था कि तुलसीदास ने ग्रंथ को अपनी खुशी के लिए लिखा। करोड़ों लो...